मॉडेम क्या है? मॉडेम कितने प्रकार के होते हैं

0
7
मॉडेम क्या है? मॉडेम कितने प्रकार के होते हैं

आजकल किस तेजी से आगे बढ़ती हुई दुनिया में टेक्नोलॉजी का काफी ज्यादा महत्व है। और टेक्नोलॉजी के आगे बढ़ते हुए भागों में सबसे महत्वपूर्ण भाग की बात करें तो वह है एक कंप्यूटर है।

किसी भी बड़े प्रोजेक्ट की तैयारी एक छोटे से कंप्यूटर से ही होती है इसलिए हम सभी जानते हैं कि कंप्यूटर का विकास कि दुनिया में काफी ज्यादा महत्व है और हमें इस कंपटीशन भरी दुनिया में आगे बढ़ना है तो हमारे पास कंप्यूटर के बारे में सामान्य जानकारी तो होनी चाहिए।

कंप्यूटर के कई सारे भाग होते हैं और कंप्यूटर को यूज़ करने के लिए भी कई सारी चीजों का इस्तेमाल किया जाता है। अगर आप भी कंप्यूटर के बारे में जानने में रुचि रखते हो तो आपने कभी ना कभी Modem का नाम तो सुना ही होगा।

मिथुन शायद आपने से कोई सारे लोगों को यह पता नहीं होगा कि मॉडेम होता क्या है और है कैसे काम करता है ? यह कितने प्रकार का होता है ? तो आज मैं आपको इस पोस्ट में मॉडेम के बारे में ही बताऊंगा

मॉडेम क्या है और यह कैसे करता है? What is Modem and How it Works in Hindi?

सरल भाषा में कहूं तो मॉडल एक प्रकार का हार्डवेयर डिवाइस होता है जो कि कंप्यूटर को किसी भी प्रकार का डाटा सेंड करने या रिसीव करने में मदद करता है। यह कंप्यूटर को टेलीफोन लाइन या केबल या किसी सैटेलाइट पर डेटा भेजने या वहां से रिसीव करने की परमिशन देता है।

एक एनालॉग टेलीफोन लाइन पर ट्रांसमिशन के मामले में, जो इंटरनेट का उपयोग करने का सबसे शानदार तरीका था, मॉडेम दो तरफ से नेटवर्क संचार के लिए रियल टाइम में एनालॉग और डिजिटल फॉर्मेट के बीच डेटा को कन्वर्ट करता है। हाई स्पीड मॉडेम के उपलब्ध होने के कारण आजकल सिग्नल को रिसीव करना और डाटा वगैरह ट्रांसफर करना काफी आसान हो गया है।

कंप्यूटर टेक्नोलॉजी पर बेस्ड यह मॉडेम पहली बार टेलीफोन में डिजिटल तरीके से डाटा ट्रांसफर करने के लिए काम में लाया गया था। इन सभी मोडेम्स की डाटा ट्रांसफर की स्पीड काफी कमाल की थी और इसलिए इनको ऐतिहासिक स्पीड के मामले में भी उस समय दर्ज किया गया था जब यह एक नया उपयोगी उपकरण था।

जैसे-जैसे कंप्यूटर टेक्नोलॉजी का विकास होता गया धीरे-धीरे मोडेम्स का महत्व भी बढ़ता गया और इनका भी काफी तेजी से विकास होता गया और आज यह अधिक क्षमता सील और तेज हो गए हैं। आपको बता दे कि पहले कमर्शियल मोडेम ने 110 बीपीएस की स्पीड का सपोर्ट किया और अमेरिका द्वारा उपयोग किया गया।

अब हमने यह तो जान लिया कि मॉडेम क्या होते हैं और यह किस तरह से काम करते हैं लेकिन अब हमें यह जानना होगा कि यह कितने प्रकार के होते हैं।

मॉडेम के प्रकार | Types of Modems in Hindi

Dial-Up Modem : डायल-अप नेटवर्क पर उपयोग किए जाने वाले पारंपरिक मोडेम टेलीफोन लाइनों और कंप्यूटर पर उपयोग किए जाने वाले डिजिटल फॉर्म पर उपयोग किए गए एनालॉग फॉर्म के बीच डेटा कन्वर्ट करते हैं. एक बाहरी डायल-अप मॉडेम एक कंप्यूटर में एक छोर पर और दूसरे छोर पर एक टेलीफोन लाइन प्लग करता है। इतिहास में, कुछ कंप्यूटर मेकर्स ने अपने कंप्यूटर डिज़ाइन में इंटरनल डायल-अप मोडेम इंटीग्रेटेड किए थे।

आज कल के नए जमाने के डायल-अप नेटवर्क मोडेम प्रति सेकंड 56,000 बिट्स की अधिकतम दर पर डेटा संचारित करते हैं। हालांकि, सार्वजनिक टेलीफोन नेटवर्क की निहित सीमाएं अक्सर मॉडेम डेटा दरों को 33.6 केबीपीएस या अभ्यास में कम करती हैं।

डायल-अप मॉडेम की हेल्प से किसी नेटवर्क से कनेक्ट होने पर, डिवाइस स्पीकर के माध्यम से वॉयस लाइन पर डिजिटल डेटा भेजकर बनाई गई विशिष्ट ध्वनियों के माध्यम से पारंपरिक रूप से रिले करते हैं। क्योंकि कनेक्शन प्रक्रिया और डेटा पैटर्न हर बार समान होते हैं, ध्वनि पैटर्न सुनना उपयोगकर्ता को यह सिद्ध करने में सहायता करता है कि कनेक्शन प्रक्रिया काम कर रही है या नहीं।

Broadband Modems : डीएसएल या केबल इंटरनेट एक्सेस के लिए यूज़ किए जाने वाले ब्रॉडबैंड मॉडेम पारंपरिक डायल-अप मोडेम की बराबरी में नाटकीय रूप से उच्च नेटवर्क गति प्राप्त करने के लिए विकसित सिग्नलिंग टेक्नोलॉजी का उपयोग करते हैं।

बता दे कि ब्रॉडबैंड मोडेम को अक्सर हाई स्पीड मोडेम के रूप में जाना जाता है। सेलुलर मोडेम एक प्रकार का डिजिटल मॉडेम है जो मोबाइल डिवाइस और सेल फोन नेटवर्क के बीच इंटरनेट कनेक्टिविटी स्थापित करता है। अर्थात मोबाइल टेक्नोलॉजी में इसे ही उपयोग किया जाता है।

तो दोस्तो, उम्मीद करता हु की आपको हमारा लिखा हुआ यह पोस्ट पसंद आया होगा। इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करे !!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here